Posts

Showing posts with the label मोसम

बेमौसम तेज बारिश और ओले से किसानों की आई आफत, चौपट हुई फसले.

Image
सुनील शर्मा प्रखर न्यूज़ व्यूज एक्सप्रेस  उरई । जिले में कई स्थानों पर बारिश से साथ ओले गिरने से किसानों के माथे पर चिंता की लकीरें साफ देखी जा सकती है हालांकि मौसम विभाग ने पूर्व में ही बारिश की आशंका जताई थी यहां सुबह से मौसम एकदम साफ था तेज धूप के साथ आज के दिन काफी गरम था शाम चार बजे अचानक आसमान में बादल आते है और तेज हवा के साथ बारिश होती है इसी के साथ ओले भी गिरते है चार या पांच मिनट ओले की बारिश होती है इसके बाद तेज बारिश भी हुई । उरई के आस पास ही यह नजारा देखने को मिला ।

केदारनाथ जाने का रास्ता बंद, हिमाचल में यलो अलर्ट; पहाड़ों पर फिर आफत में जान

Image
 भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने हिमाचल में मध्यम बारिश की भविष्यवाणी की है. इसके अलावा राज्य में हालात को देखते हुए येलो अलर्ट जारी किया हैं. आपको बता दें कि IMD ने हिमाचल प्रदेश ने अगले 4-5 दिनों के लिए येलो अलर्ट जारी किया है और राज्य में अगले 48 घंटों के लिए मध्यम बारिश की भविष्यवाणी की है. मौसम को देखते हुए केदारनाथ के रास्तों को बंद कर दिया गया है. इसके अलावा भक्तों को बीच रास्ते में रोक दिया गया है. पहाड़ों पर हुई बारिश के बाद दिल्ली और इसके आस-पास के इलाकों में भी मौसम ने करवट बदल ली है. आपको बता दें कि राष्ट्रीय राजधानी के कई इलाकों में शुक्रवार की सुबह हल्की बारिश हुई और न्यूनतम तापमान सामान्य से दो डिग्री कम 25.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. मौसम विभाग ने यह जानकारी दी है. भारत मौसम विभाग (IMD) के अनुसार शहर में दिन के समय बारिश के आसार हैं, जबकि अधिकतम तापमान करीब 35 डिग्री सेल्सियस रह सकता है. IMD के अनुसार, शुक्रवार की सुबह आठ बजकर 30 मिनट पर आर्द्रता 78 फीसदी रही. आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार सुबह लगभग आठ बजे वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) 70 था, जो ‘संतोषजनक’ श्रेणी में आता ह

लालकिला सैलानियों के लिए बंद, ITO-राजघाट भी पानी-पानी... दिल्ली में यमुना की बाढ़ का कहर

Image
 यमुना का जलस्तर भले ही कम हो रहा हो लेकिन दिल्ली में सैलाब का संकट अब भी बरकरार है. यमुना नदी अब भी खतरे के निशान से 3 मीटर ऊपर बह रही है. ऐसे में राजधानी के कई इलाके अभी भी जलमग्न हैं. आईटीओ के पास पानी भर चुका है. नदी के किनारे की बस्तियों से आगे बढ़कर पानी लाल किला और रिंग रोड तक पहुंच गया. इसी के चलते आज लाल किले में पर्यटकों के जाने पर रोक लगा दी गई है. बाढ़ के खतरे को देखते हुए दिल्ली में सभी स्कूलों को 16 जुलाई तक बंद कर दिए गए हैं. उधर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फ्रांस से केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और एलजी विनय सक्सेना से फोन पर बात की है. बताया जा रहा है कि यमुना के जलस्तर में 17 सेंटीमीटर की गिरावट आई है. हालांकि, मौसम विभाग ने दिल्ली और आसपास के इलाके (जाफरपुर, नजफगढ़, द्वारका, पालम, आईजीआई एयरपोर्ट, आयानगर, डेरामंडी) और एनसीआर (गुरुग्राम), गोहाना, सोनीपत में हल्की बारिश की संभावना जताई है. माना जा रहा है कि अगर इन इलाकों में बारिश हुई, तो दिल्लीवासियों की परेशानी और बढ़ सकती है. दिल्ली में एनडीआरएफ की 15 टीमें तैनात: दिल्ली में एनडीआरएफ की 15 टीमें तैनात की गई हैं. अब

5 साल में चौथा चक्रवात, अचानक गुजरात की तरफ क्यों बढ़ने लगे हैं तबाही के इतने तूफान

Image
..अहमदाबाद: गुजरात में 15 जून को बेहद गंभीर चक्रवाती तूफान बिपरजॉय की आहट है। मौसम विभाग के अधिकारियों का कहना है कि बीते पांच सालों में गुजरात तट को प्रभावित करने वाला चौथा बड़ा चक्रवात है। इससे पहले 2019 में चक्रवात वायु के चलते भूस्खलन हुआ फिर 2020 में महाराष्ट्र में आने वाले निसर्ग तूफान ने तटीय गुजरात में भीषण बारिश से नुकसान पहुंचाया। साल 2021 में तौक्ताई ने दीव-ऊना के पास एक भूस्खलन किया, जिससे व्यापक विनाश हुआ। गुजरात ने 1998 से अब तक 20 सालों में चार बड़े चक्रवातों का सामना किया। कांडला से टकराने वाले एक सुपर-चक्रवात ने तो मानव जीवन और संपत्ति को ऐसा नुकसान पहुंचाया, जिसके निशान 2018 तक देखने को मिले थे। जलवायु परिवर्तन ने गुजरात को बनाया संवेदनशील विशेषज्ञों की मानें तो जलवायु परिवर्तन ने गुजरात को चक्रवातों के प्रति संवेदनशील बना दिया है। भारत मौसम विज्ञान विभाग, गुजरात के प्रमुख मनोरमा मोहंती ने कहा, 'जलवायु परिवर्तन अरब सागर क्षेत्र में उष्णकटिबंधीय चक्रवातों में वृद्धि के लिए जिम्मेदार कई कारणों में से महत्वपूर्ण है।' मौसम विभाग के अधिकारियों ने कहा कि लक्षद्वीप स

अगले 24 घंटे में विकराल रूप ले सकता है चक्रवाती तूफान बिपरजोय, इन तीन राज्यों में अलर्ट

Image
 सूरत: भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने शनिवार को कहा कि 'बेहद गंभीर' चक्रवाती तूफान बिपरजोय (Cyclone Biparjoy) के अगले चौबीस घंटों में और तेज होने की उम्मीद है. यह चक्रवाती तूफान उत्तर-उत्तरपूर्व की ओर बढ़ेगा. आईएमडी ने एक ट्वीट में कहा, "9 जून को IST 2330 बजे IST पर 16.0N और 67.4E लंबे अक्षांश के पास पूर्व-मध्य अरब सागर पर बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान बिपरजोय अगले 24 घंटों के दौरान और तेज होने और इसके उत्तर-उत्तर पूर्व की ओर बढ़ने की संभावना है." अरब सागर तट पर वलसाड में तीथल बीच पर ऊंची लहरें देखी गई हैं. एहतियात के तौर पर तीथल बीच को 14 जून तक पर्यटकों के लिए बंद कर दिया गया है. वलसाड तहसीलदार टीसी पटेल ने कहा, "हमने मछुआरों को समुद्र में नहीं जाने के लिए कहा और वे सभी वापस आ गए हैं. लोगों को जरूरत पड़ने पर समुद्र के किनारे गांव में स्थानांतरित कर दिया जाएगा. उनके लिए आश्रय बनाए गए हैं, हमने 14 जून तक पर्यटकों के लिए तीथल बीच को बंद कर दिया है." सात राज्यों में लू की चेतावनी मौसम पूर्वानुमान में कहा गया है कि सात राज्यों में लू की स्थिति रहेगी। बिहार के

सूरत शहर में तापमान हुआ 40° डिग्री के पार, लोगों का गर्मी ने किया हाल बेहाल

Image
  अंजना मिश्रा प्रखर न्यूज़ व्यूज एक्सप्रेस  सूरत शहर में गर्मी के तापमान में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। जिससे गर्मी अधिक होने से लोगों का सिर चकरा रहा है। लू के थपेड़ों से भी हाल बेहाल हो रहा है। दोपहर में गर्मी बढ़ने पर नगर गली-मोहल्ले से लेकर बाजारों तक लोगों की आवाजाही कम हो रही है।पिछले दो दिनों से तापमान में लगातार हो रही बढ़ोतरी से जन-जीवन पर असर पड़ने लगा है। गर्मी में पंखे में भी राहत नही मिल रही है। बढ़ती तपिश के कारण लोग परेशान है। गर्मी के कारण लोग घरों से निकलने से कतरा रहे और जरूरी काम के लिए ही घरों से बाहर निकल रहे है। दोपहर में बाजारों में लोगों की आवाजाही काफी कम हो रही है। जिले का मंगलवार को अधिकतम तापमान 40 डिग्री और न्यूनतम तापमान 23 डिग्री रिकार्ड किया गया। मौसम विभाग का कहना हैं कि अभी तापमान में ओर बढ़ोतरी हो सकती हैं l

बंगाल की खाड़ी में चक्रवाती तूफान की संभावना, 8 से 11 मई के दौरान कई इलाकों में होगी बारिश

Image
नई दिल्ली : बंगाल की खाड़ी के ऊपर चक्रवाती तूफान आने की संभावना को लेकर भारतीय मौसम विभाग के डीजी ने नई जानकारी दी है. उन्होंने बताया है कि दक्षिण-पूर्व बंगाल की खाड़ी और आसपास के क्षेत्र में आज सुबह 8.30 बजे साइक्लोनिक सर्कुलेशन बना है. इसके प्रभाव से 8 मई की सुबह तक इस इलाके में कम दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना है. इसके 9 मई के आसपास दक्षिण पूर्व बंगाल की खाड़ी पर एक दबाव के रूप में केंद्रित होने की संभावना है. उन्होंने बताया कि, इसके बाद बंगाल की खाड़ी के उत्तर से करीब मध्य भाग की ओर चक्रवाती तूफान के बढ़ने की प्रबल संभावना है. कम दबाव का क्षेत्र बनने के बाद तूफान के मार्ग और इसकी तीव्रता का ब्यौरा दिया जाएगा. सिस्टम लगातार निगरानी में है. स्थिति की नियमित रूप से निगरानी की जा रही है मौसम की इस सिस्टम के कारण 8 से 12 मई के बीच अधिकांश स्थानों पर मध्यम दर्जे की बारिश होगी. 8 से 11 मई के दौरान अलग-अलग स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा हो सकती है. 10 मई को अंडमान और निकोबार द्वीप समूह पर छिटपुट बारिश से लेकर भारी वर्षा होने की संभावना है. दक्षिण-पूर्व बंगाल की खाड़ी, अंडमान-निकोबार

17 साल बाद शिमला में भारी बारिश और 10 वर्ष में अप्रैल में अधिकतम पारा रहा सबसे कम

Image
  हिमाचल प्रदेश में बीते 20 वर्षों के दौरान अप्रैल में दूसरी बार बादल झमाझम बरसे। 17 साल बाद शिमला में 24 घंटों में सबसे अधिक बारिश हुई, जबकि 10 वर्ष में अप्रैल में अधिकतम पारा सबसे कम रिकॉर्ड किया गया। इस साल एक से 30 अप्रैल तक प्रदेश में सामान्य से 63 फीसदी अधिक बारिश रिकॉर्ड हुई। इससे पहले वर्ष 2021 में 70 और 2019 में 50 फीसदी अधिक बारिश दर्ज हुई थी।  शनिवार रात और रविवार को शिमला में 54 मिलीमीटर बारिश हुई। इससे पहले वर्ष 2006 में 56 मिलीमीटर बारिश हुई थी। रविवार को शिमला में झमाझम बादल बरसने के साथ जमकर ओलावृष्टि भी हुई। दोपहर के समय शहर में कुछ देर के लिए अंधेरा छा गया। 2007 से 2022 तक शिमला में 24 घंटे के दौरान दूसरी सबसे अधिक बारिश वर्ष 2017 में 52 मिलीमीटर हुई थी।  वहीं, अप्रैल के अधिकांश दिन इस वर्ष ठंडे मौसम में ही बीते। राजधानी शिमला में इस वर्ष 17 अप्रैल को अधिकतम तापमान 25.9 डिग्री रिकॉर्ड हुआ। इससे पहले 28 डिग्री से ऊपर चला जाता था। इस वर्ष अप्रैल में दर्ज हुआ यह सबसे अधिक पारा रहा।  अन्य दिनों में अधिकतम तापमान औसतन 20 डिग्री से कम रहा। इस वर्ष 25.9 डिग्री रिकॉर्ड अधिकतम