Posts

Showing posts with the label मौषम

साइक्लोन मैंडूस ​​​​​​​MP में कराएगा बारिश:इंदौर, भोपाल समेत 13 शहरों में ज्यादा असर होगा

Image
 बंगाल में एक्टिव साइक्लोन मैंडूस तमिलनाडु में तबाही मचाने के बाद दक्षिण आंध्र प्रदेश की तरफ बढ़ गया है। मौसम विभाग के मुताबिक, शुक्रवार देर रात साइक्लोन मामल्लपुरम तट से टकराने के बाद कमजोर पड़ गया। मैंडूस अगर दिशा बदलकर विशाखापट्‌टनम तट से टकराता है तो इसका सीधा असर मध्यप्रदेश में भी पड़ेगा। यहां तेज हवाओं के साथ भारी बारिश होगी। दिन का पारा 15 डिग्री सेल्सियस से भी नीचे चला जाएगा। पूरा प्रदेश शीतलहर की चपेट में आ जाएगा। भारतीय विज्ञान शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान (आइसर) भोपाल के रिसर्च एसोसिएट डॉ. गौरव तिवारी ने media को बताया कि मैंडूस का सेंटर चेन्नई होने से मध्यप्रदेश को राहत है। मैंडूस के असर से मध्यप्रदेश में 12 दिसंबर से मौसम में बदलाव होने लगेगा। अभी की स्थिति में इसका सबसे ज्यादा असर इंदौर में दिखाई दे रहा है। चक्रवात के कारण मध्यप्रदेश में अगला एक सप्ताह मौसम के लिहाज से उथल-पुथल भरा रहेगा। पहले तो तापमान में बढ़त होगी, लेकिन फिर बादल, बारिश की वजह से तापमान में गिरावट दर्ज की जाएगी। तीन दिन तक यहां ज्यादा असर प्रदेश में 12 दिसंबर से हल्की बारिश हो सकती है। तीन दिन तक मैंडूस क

दिल्ली की हवा 'गंभीर' श्रेणी में पहुंची, AAP और BJP ठहरा रही हैं एक दूसरे को जिम्मेदार

Image
  नई दिल्ली: दिल्ली की हवा लगातार जहरीली होती जा रही है. आलम ये है कि दोपहर 1 बजे तक वायु गुणवत्ता सूचकांक राष्ट्रीय राजधानी के कई क्षेत्रों में 400-500 रेंज यानी गंभीर" श्रेणी में था. जनवरी के बाद से प्रदूषण का स्तर अपने उच्चतम स्तर पर है, दिल्ली में कुछ जगह पर ये सूचकांक में 500 के करीब पहुंचने के करीब है. पीएम 2.5 की सांद्रता सुबह 11 बजे कई इलाकों में 400 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर से ऊपर थी, जो 60 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर की सुरक्षित सीमा से लगभग सात गुना अधिक है. हवा की गुणवत्ता के नवीनतम पूर्वानुमान ने चेतावनी दी है कि अभी स्थिति और बदतर होने जा रही है. इससे साफ अंदाजा हो रहा कि कम से कम कुछ दिनों के हवा की गुणवत्ता बहुत खराब" श्रेणी में रहेगी. इस बीच, आप कार्यकर्ताओं ने आज दिल्ली के उपराज्यपाल कार्यालय के सामने विरोध प्रदर्शन किया और दावा किया कि उन्होंने जानबूझकर प्रदूषण कम करने के उद्देश्य से उनके 'रेड लाइट ऑन, गाड़ी ऑफ' अभियान को मंजूरी नहीं दी. हालांकि, एलजी ने पलटवार करते हुए कहा कि आप ने अभियान की शुरुआत की तारीख के बारे में "झूठ" बोला. अक्सर क

केदारनाथ धाम में गिरे हिमस्खलन का भयावह मंजर, भरभराकर गिरा बर्फ का पहाड़स कई श्रद्धालु फंसे

Image
 केदारनाथ धाम में एक बार फिर से प्रकृति आपदा आन पड़ी। पवित्र केदारनाथ मंदिर के आसपास के पहाड़ों में गुरुवार शाम 6ः30 बजे के करीब भयंकर हिमस्खलन हुआ जिसके चलते सफेद चादर ओढ़े पहाड़ी का एक हिस्सा का बर्फ भरभराकर तेजी से नीचे लुढ़का।  यह हिमस्खलन चोराबाड़ी ग्लेशियर कैचमेंट एरिया में हुा यह यह स्थान केदारनाथ मंदिर परिसर से 5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। हालांकि इस एवलांच में जान-माल के नुकसान की कोई खबर नहीं है। अधिकारी स्थिति पर करीब से नजर रखे हुए हैं. बता दें कि केदारनाथ घाटी में बीते कुछ दिनों से मौसम काफी खराब है और तेज बारिश हो रही है। याद दिला दें कि जून 2013 में आई आपदा में भी चोराबाड़ी झील के टूटने से मंदाकिनी नदी में बाढ़ आ गई थी, जिससे कई श्रद्धालुओं की मौत हो गई थी।  वहीं अभी भी रद्रप्रयाग जिले में पिछले दो दिनों से भारी बारिश हो रही है। बरसात की वजह से जनजीवन अस्त-वयस्त हो गया है। लगातार हो रही बारिश से तापमान में भी गिरावट दर्ज की गई हैं,वहीं अब भूस्खलन कई सड़कें भी बंद हो गईं हैं, जिससे श्रद्धालु फंस गए हैं। 

घुटने भर पानी, एक हाथ से सहारा, दूसरी तरफ छाता... लखनऊ कमिश्नर IAS रोशन जैकब का वीडियो वायरल

Image
 उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में पिछले 24 घंटे से भारी बारिश हो रही है. इस वजह से कई इलाकों में पानी भर आया है, जबकि शहर के दिलकुशा इलाके में एक मकान गिरने की वजह से 9 लोगों की मौत हो गई है. बारिश की वजह से लखनऊ के कई इलाकों में पानी भर गया है. इस वजह लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. मौसम विभाग ने आज और कल भी भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है. इस बीच लखनऊ की कमिश्नर रोशन जैकब ने शुक्रवार सुबह शहर में जलभराव की स्थिति का निरीक्षण किया. खुद पानी में घुसकर आईएएस अफसर रोशन जैकब उन इलाकों में पहुंचीं, जहां पर पानी भरा हुआ है. इसमें जानकीपुरम, राम मनोहर लोहिया हॉस्पिटल, रिवरफ्रंट कॉलोनी आदि शामिल है. कमिश्नर रोशन जैकब ने अधिकारियों को जलजमाव की समस्या को निजात दिलाने का आदेश दिया. यहां देखिए कमिश्नर के दौरे का वीडियो-इस बीच लखनऊ में भारी बारिश को लेकर एडवाइजरी जारी की गई है. मौसम विभाग ने 17 सितंबर तक भारी वर्षा की संभावना व्यक्त की है. लखनऊ जिला प्रशासन ने सभी लोगों पूरी सावधानी बरतने का निर्देश दिया है. साथ ही पुराने जर्जर भवनों से सावधान रहने और अत्यंत आवश्यक कार्य होने पर ही घ

गुजरात: बारिश से 24 घंटे में 14 की मौत, 4 जिलों में बारिश का हाई अलर्ट

Image
 राज्य में बारिश से अब तक 83 लोगों की जान गई 30 हजार से ज्यादा लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेजा गुजरात में बारिश और बाढ़ कहर ढा रही है. पिछले तीन दिन से बारिश से जनजीवन पूरी तरह अस्त-व्यस्त कर रखा है. राज्य में बारिश के चलते पिछले 24 घंटे में 14 लोगों की मौत हो गई है. अब तक 83 लोगों की जान गई है. मौसम विभाग ने नवसारी, वलसाड, गिर सोमनाथ और जूनागढ़ में बारिश का हाईअलर्ट जारी किया है. गुजरात में लगातार पिछले 3 दिनों से हो रही बारिश की वजह से नवसारी, वलसाड, सूरत, नर्मदा, छोटा उदेयपुर, अहमदाबाद, सौराष्ट्र के गिर सोमनाथ, द्वारिका, राजकोट जैसे शहरों में भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. दरअसल, गुजरात में बारिश के चलते पिछले 24 घंटे में 14 लोगों की मौत की खबर आई है. जबकि इस पूरे सीजन की बारिश में 83 लोगों की मौत हुई है. वहीं, मवेशियों की बात की जाए तो 487 जानवरों की बारिश में बह जाने की वजह से मौत हुई है. 30 हजार से ज्यादा को सुरक्षित स्थानों प।र भेजा बारिश के चलते प्रशासन ने नवसारी, वलसाड, कच्छ जिले के स्कूलों में छुट्टी कर दी है. वहीं, अब तक 30 हजार से भी ज्यादा लोगों को सुरक्षित स्था

मौसम की मार, असम से गुजरात तक हाहाकार, इस सप्ताह भी राहत के नहीं हैं आसार

Image
 गुजरात और मध्य प्रदेश में बारिश से संबंधित घटनाओं में कम से कम 14 लोगों की मौत हो गई और पश्चिम और मध्य भारत के कुछ हिस्सों में सोमवार को हुई भारी बारिश के कारण हजारों लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया। महाराष्ट्र के गढ़चिरौली जिले में भारी बारिश और लगातार बारिश के कारण नासिक जिले में कई नदियों के जल स्तर में वृद्धि के बाद तीन व्यक्ति लापता हो गए, वहीं गोदावरी नदी के किनारे स्थित कई मंदिर जलमग्न हो गए। अधिकारियों ने कहा कि गढ़चिरौली जिले में पिछले तीन दिनों में तीन लोग नाले में बह गए और बाद में उनके शव निकाले गए। उन्होंने बताया कि हालांकि नाले में बह जाने के बाद से तीन और लोग अब भी लापता हैं। मुंबई और उसके आसपास के इलाकों में भी सोमवार को मध्यम बारिश हुई। एक सप्ताह से अधिक समय बाद सोमवार दोपहर को दिल्ली के कुछ हिस्सों में बारिश हुई, जिससे उमस भरे मौसम से थोड़ी राहत मिली। हालांकि, शाम होते-होते मौसम फिर से उमस भरा हो गया। राजस्थान मौसम विभाग के अधिकारियों ने बताया कि राजस्थान में ज्यादातर जगहों पर मध्यम बारिश हुई जबकि सोमवार सुबह तक पिछले 24 घंटों में छिटपुट जगहों पर भारी बारिश ह

अमरनाथ गुफा के पास बादल फटने से पांच श्रद्धालुओं की मौत, हजारों लोग फंसे

Image
 पवित्र अमरनाथ गुफा के पास बादल फटने से आई बाढ़ की चपेट में आने से पांच श्रद्धालुओं की मौत हो गई है। इसके अलावा मौके पर हजारों भक्त फंसे हुए हैं। बड़े पैमाने पर राहत और बचाव कार्य किया जा रहा है। गृहमंत्री अमित शाह ने पूरे मामले में उपराज्यपाल मनोज सिन्हा से बात की है।  भारी बारिश और बाढ़ की चेतावनी के बीच अमरनाथ गुफा के पास बादल फटने से बाढ़ आ गई। तेज बहाव के साथ आया पानी लंगर और 25 टेंट बहा ले गया। इसमें कई यात्रियों के बहने की सूचना है। रेस्क्यू दल ने पांच शव निकाल लिए हैं। घायलों को एयरलिफ्ट किया जा रहा है। एनडीआरएफ, एसडीआरएफ समेत आपदा प्रबंधन से जुड़ी तमाम एजेंसियां रेस्क्यू ऑपरेशन में जुट गई हैं। करीब 5.30 बजे बादल फटने हुई घटना  गुफा के ठीक सामने लगे टेंट से लोगों को फौरन पहाड़ की ढलान तक सुरक्षित पहुंचाया गया।बताया जा रहा है कि शाम करीब 5.30 बजे बादल फटने से पवित्र अमरनाथ गुफा के ऊपर बाईं ओर से अचानक तेज बहाव के साथ पानी आ गया। उस दौरान बारिश की फुहार के बीच हजारों यात्री गुफा के ठीक सामने अपने टेंट में थे। कुछ यात्री रेनकोट पहने बाहर भी खड़े थे। बाढ़ का पानी गुफा के सामने समतल

महंगाई के बाद प्रकृति की मार किसान का हाल बेहाल ।

Image
राजेन्द्र सिंह राजपूत प्रखर न्यूज व्यूज एक्सप्रेस भोपाल  रायसेन ,तहसील बरेली जिला रायसेन के अंतर्गत आने वाला ग्राम मेहरागांव कला अति ओलावृष्टि की वजह से मूंग की फसल को भारी नुकसान संपूर्ण फसल लगभग चौपाट हो गई है। मूंग पर किसान बहुत ही आस लगाए बैठा था इससे पहले अरहर पर मौसम की मार किसान को पहले ही झेल चुका है अब मूंग की फ़सल कुदरती मार से दोबारा खराब एक साल में दो बार किसान कैसे झेल पाएगा कुछ किसानों का तो यह भी कहना है यदि इसी तरह महंगाई और प्रकृति की मार बनी रही तो आत्महत्या करना पड़ेगी इधर गेहूं पर मात्र ₹50 बढ़ाकर सरकार एमएससी का हल्ला पीट देती है लेकिन इसके विपरीत कीटनाशक और खाद्य पदार्थों में कितना इजाफा हो चुका है इसका कोई ध्यान नहीं है ना ही उसका प्रचार है लगता है किसानों को मारने की सरकार की भी मिलीभगत है । सरकार द्वारा पिछले वर्ष गेहूं का समर्थन मूल्य 1975 था आज 2022 में गेहूं का समर्थन मूल्य 2015 कर दिया गया इस पर सरकार हल्ला बैठती है कि हमने समर्थन मूल्य बढ़ा दिया एमएससी बढ़ा दी है इसके विपरीत में यदि कीटनाशक को आप देखोगे तो बहुत ज्यादा रेट में पिछले वर्ष की अपेक्षा अंतर है

गंभीर 'चक्रवाती तूफान' में तब्दील हुआ Asani, इन राज्यों में अगले 4 दिन बारिश के आसार, अलर्ट पर तीन राज्य

Image
 नई दिल्ली : Asani Cyclone : बंगाल की खाड़ी में उठा चक्रवात 'असानी' उत्तर-पश्चिम की ओर आंध्र-ओडिशा तट के करीब बढ़ रहा है. मंगलवार को इसके पश्चिम-मध्य और उससे सटे उत्तर-पश्चिम बंगाल की खाड़ी में पहुंचने पर उत्तर-पूर्व की ओर मुड़ने और ओडिशा तट से उत्तर-पश्चिम बंगाल की खाड़ी की ओर बढ़ने की संभावना है. उससे पहले चक्रवात की वजह से कोलकाता समेत कई इलाकों में तेज बारिश हुई है. इससे कोलकाता में कई जगह जलजमाव की स्थिति देखी गई. मौसम विभाग ने चेतावनी जारी करते हुए मछुआरों को 9 मई को बंगाल की खाड़ी के मध्य भागों में नहीं जाने की सलाह दी है. 9 और 10 मई को पश्चिम मध्य बंगाल की खाड़ी और 10 मई से 12 मई तक बंगाल की उत्तर पश्चिमी खाड़ी में भी मछुआरों को नहीं जाने की सलाह मौसम विभाग ने दी है मौसम विभाग ने चक्रवात 'असानी' की गति और तीव्रता के अपने पूर्वानुमान में कहा कि चक्रवाती तूफान के बुधवार को भयानक चक्रवाती तूफान में बदलने और बृहस्पतिवार तक गहरे दबाव में बदलने की संभावना है. आईएमडी के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र ने कहा कि चक्रवात पूर्वी तट के समानांतर चलेगा और मंगलवार शाम से बारिश

प्री मानसून मेंटेनेंस को लेकर 24 अप्रैल को प्रातः 6:00 से 11:00 तक विद्युत सप्लाई रहेगा

Image
अनिल उपाध्याय खातेगांव  प्रखर न्यूज व्यूज एक्सप्रेस भोपाल      --------           खातेगांव विद्युत मंडल के कनिष्ठ यंत्री विजय माथनकर ने बताया कि 24 अप्रैल 2022 को प्रातः 6:00 बजे से 11:00 बजे तक प्री मानसून मेंटेनेंस के लिए संपूर्ण खातेगांव शहर की विद्युत प्रदाय बंद रहेगी। विद्युत सप्लाई बंद होने पर आपने उपभोक्ताओं को होने वाली असुविधा के लिए खेद व्यक्त करते हैं सहयोग की अपील की है।

एडी ने किया लवकुश नगर का भ्रमण, इस मौसम में सतर्क रहने की अपील

Image
सुनील शर्मा प्रखर न्यूज़ व्यूज एक्सप्रेस भोपाल लखनऊ 24 फरवरी 2022 अपर निदेशक मलेरिया एवं वेक्टर बार्न डिसीज़ डा0 रमेश चन्द्र पाण्डे ने कहा कि मौसम बदल रहा है। बार-बार ठंडक और गर्मी का एहसास हो रहा है, ऐसे मौसम में सतर्क रहने की आवश्यकता है। अतः संचारी रोगों से जुड़े सभी कार्यकर्ता बचाव के लिए नियमित प्रयत्नशील रहें। डॉ. पाण्डेय ने ये बातें गुरुवार को मलेरिया व डेंगू की दृष्टि से संवेदनशील बस्ती लवकुश नगर का भ्रमण करने के दौरान कहीं। उन्होंने क्षेत्रीय स्तर के कार्यकर्ताओं एवं बी.सी.सी.एफ. को नियमित लार्वा सर्वे एवं बुखार का सर्वे करने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि लोगों को समझाना है कि किसी भी बर्तन, चाहे वह पक्षियों को पानी पिलाने के लिए हो, उनमें नियमित पानी बदलें एवं ताजा पानी अच्छे से साफ करके भरें। कंटेनर या अन्य पात्र पानी संचय और लार्वा की पैदाइश के लिए बहुत अनुकूल है, इससे डेंगू एवं मलेरिया फैलने की प्रबल संभावना होती है।   एम्बेड समन्वयक धर्मेन्द्र त्रिपाठी ने बताया कि शहर में डेंगू प्रभावित क्षेंत्रों में मलेरिया व एम्बेड टीम सक्रिय रूप से कार्य कर रही है एवं नियमित लार्वा सर्वे

7 साल बाद पारा माइनस में, कंपकंपाया MP:पचमढ़ी में तापमान -0.5 तक लुढ़का; सावधान- भोपाल में 24 घंटे में हार्टअटैक और पैरालिसिस के 52 मरीज

Image
   मध्यप्रदेश ,भारत के पहाड़ों पर हो रही बर्फबारी ने मध्य प्रदेश में ठिठुरन बढ़ा दी है। पचमढ़ी में रात का पारा 0 से नीचे चला गया। यहां रविवार रात का पारा -0.5 डिग्री दर्ज हुआ। सुबह पेड़-पौधों और बाहर खड़ी गाड़ियों पर बर्फ की परत जमी दिखी। बढ़ती ठंड की वजह से भोपाल में पिछले 24 घंटे में हार्ट अटैक और पैरालिसिस के 52 मरीज अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती हुए हैं। इनमें हार्ट अटैक के 33 और पैरालिसिस के 19 मरीज शामिल हैं। ग्वालियर में भी पिछले 10 दिनों में हार्ट अटैक के मरीजों में 10 से 15 फीसदी इजाफा हुआ है। सोमवार को प्रदेश में सबसे ठंडा दिन अशोकनगर, पन्ना, रीवा और खरगोन में रहा। यहां दिन का पारा 21 डिग्री से नीचे रहा। इसके अलावा भोपाल, छतरपुर और सागर में सीवियर कोल्ड वेव चली। मौसम विभाग के अनुसार अगले 24 घंटे ठंड से राहत की उम्मीद नहीं है। ठंडी हवाएं और तेजी के साथ चल सकती हैं। विभाग ने लोगों के लिए कई परत वाले ऊनी कपड़े पहनने की सलाह जारी की है। मौसम वैज्ञानिक वेद प्रकाश सिंह ने बताया कि इस बार 10 साल में पहली बार भोपाल और प्रदेश में रिकॉर्ड ठंड पड़ रही है। इससे पहले 2014 में तापमान माइनस में गया था

दिल्ली में बढ़ते पॉलुशन का नहीं दिख रहा कोई सॉलुशन, कई इलाके बने रेड जोन, इन दो इलाकों में बिगड़े हालात

Image
  राजधानी दिल्ली में खराब हुई फिजा ठीक होने का नाम ही नहीं ले रही है. आसपास के राज्यों में जलने वाली पराली और दिवाली के मौके पर हुई आतिशबाजी की वजह राजधानी में प्रदूषण (Delhi AQI Level) अधिक बढ़ गया. शुक्रवार को दो इलाकों में एयर क्वालिटी 700 से अधिक दर्ज की गई. हालांकि, औसत तौर पर यह आंकड़ा 360 है. इसके अलावा, राजधानी के कई इलाके रेड जोन में बने हुए हैं. सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी एंड वेदर फॉरकास्टिंग एंड रिसर्च (SAFAR) द्वारा जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार, ''दिल्ली की ओवरऑल एयर क्वालिटी इंडेक्स (AQI) 360 पाई गई है.'' यह एयर क्वालिटी 'बहुत खराब' श्रेणी में आती है. इससे पहले बीते दिन भी एयर क्वालिटी 'बहुत खराब' दर्ज की गई थी. दिल्ली एनसीआर में पिछले कई दिनों से पॉल्यूशन की वजह से विजिबिलिटी पर भी असर पड़ा है. हवा में स्मॉग की मोटी चादरें दिखाई दे रही हैं. कुतुब मीनार, लोटस टैंपल, अक्षरधाम मंदिर के आसपास के इलाकों में स्मॉग और लो विजिबिलिटी दर्ज की गई. साथ ही 'खराब हवा' की वजह से लोगों को सांस लेने में भी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है.इन दो इलाकों

गुलाब’ के बाद अब ‘शाहीन’ बरपाएगा कहर, नए तूफान से महाराष्ट्र और गुजरात को IMD ने किया अलर्ट

Image
 चक्रवाती तूफ़ान ‘गुलाब’ (Gulab Cyclone) का कहर अभी थमा भी नहीं है कि एक नए चक्रवाती तूफान ‘शाहीन’ (Shaheen Cyclone) की आशंका ने लोगों के दिलों में दहशत पैदा कर दी है. यह तूफान खास तौर से महाराष्ट्र और गुजरात के समुद्र तटीय इलाकों में रहने वाले लोगों के लिए चिंता का सबब बन रहा है. इसकी वजह यह है कि ‘शाहीन’ नाम का चक्रवाती तूफान अरब सागर (Arabian Sea) में तैयार होने वाला है और यह महाराष्ट्र और गुजरात के समुद्री किनारे वाले इलाकों में अपना असर दिखाएगा. फिलहाल महाराष्ट्र में चक्रवाती तूफान ‘गुलाब’ ने तबाही लाई है. ‘गुलाब’ तूफान अब निम्न दाब के क्षेत्र के रूप में बदल गया है. यह सरक कर छत्तीसगढ़ और ओड़िशा के दक्षिणी इलाकों में पहुंचा हुआ है. इस कम दाब का क्षेत्र तैयार होने की वजह से सोमवार से ही महाराष्ट्र के कई इलाकों में मूसलाधार से अति मूसलाधार बरसात हो रही है. सिर्फ मराठवाडा क्षेत्र की बात करें तो यहां 10 लोगों की जानें गई हैं. कई मवेशी बह गए हैं, दुकानें बह गई हैं गुलाब (Gulab) ने ढाया कहर, शाहीन (Shaheen) का क्या होगा असर? मराठवाडा और विदर्भ क्षेत्र के जिलों में गुलाब के कहर का खौफ़ना

छत्तीसगढ़ के इस गांव में नहीं है पीने का पानी, पढ़ने की उम्र में बकरी चरा रहे बच्चे

Image
छत्तीसगढ़ के कोरिया जिले के कुदरा गांव में लोग मूलभूत चीजों से वंचित हैं. लगभग 300 लोगों की जनसंख्या वाले इस गांव में स्कूल, सड़क और पीने का पानी की सुविधा तक नहीं है. सरवर अलि/कोरिया: छत्तीसगढ़ के कोरिया जिले के कुदरा गांव में लोग मूलभूत चीजों से वंचित हैं. लगभग 300 लोगों की जनसंख्या वाले इस गांव में स्कूल, सड़क और पीने का पानी की सुविधा तक नहीं है.  डेढ़ दशक तक भाजपा सरकार रही और अब ढाई साल से यहां कांग्रेस की सरकार है. लेकिन इस गांव को सुविधा नहीं मिल सकी. करीब 45 से 50 बच्चे यहां पढ़ने की उम्र में खेलकूद और गाय, बकरी चरा कर अपना समय बिता रहे हैं. परेशानी यहीं तक सीमित नहीं है, इस गांव तक पहुंचने के लिए न तो सड़क है और पीने के लिए साफ पानी लोगों को मिल रहा है.गांव के दो-तीन बच्चे कुदरा से करीब 15 किमी दूर ग्राम च्यूल में परिजनों से दूर रहकर पढ़ाई कर रहे थे. लेकिन लॉकडाउन के कारण दो साल से वह स्कूल भी बंद है. लोगों की मानें तो ग्रामीण क्षेत्र में विधायक हो या अधिकारी उन्हीं गांवों में दौरा करने जाते हैं, जहां सड़क,बिजली पानी की सुविधा होती है. गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ सरकार ने कुदरा पंचा

भरुच-नर्मदा में बरसे बादल*

Image
अंजना मिश्रा गुजरात ब्यूरो चीफ  कुलदीप मौर्या सूरत संवाददाता    नर्मदा बांध का जलस्तर 115.89 मीटर, भरुच जिले की चार तहसीलों में हुई बरसात, पांच तहसील रही सूखी भरुच. भरुच व नर्मदा जिले में सोमवार को बरसे बादलों ने माहौल खुशनुमा बना दिया है। केवडिया स्थित सरदार सरोवर नर्मदा बांध का जलस्तर 115.89 मीटर दर्ज किया गया। भरुच जिले की चार तहसीलों में सोमवार को बरसात हुई जबकि पांच तहसील सूखी रहीं। भरुच व नर्मदा जिले में मानसून ने दस्तक दे दी है। पिछले दो दिन से बादलों की आवाजाही के बीच बरसात का दौर रुक-रुक कर जारी है। दिन के समय रिमझिम बरसात पिछले तीन दिनों से हो रही है। सोमवार को भरुच जिले में सबसे ज्यादा बरसात वागरा तहसील में 21 मिमी दर्ज की गई। आमोद में 13, जंबूसर में 4 व नेत्रंग में 3 मिमी बरसात हुई।  नर्मदा जिले में पिछले 24 घंटे में सबसे ज्यादा 23 मिमी बरसात देडियापाडा तहसील में और सबसे कम 10 मिमी गरुडेश्वर तहसील में दर्ज की गई। इसके अलावा नांदोद तहसील में 22 मिमी, तिलकवाडा में 18 मिमी व सागबारा में 20 मिमी हुई। बरसात शुरु होने से जिले में ठंडक पसर गई। किसान कृषि कार्य में लग गये हैं। नर्म

यूपी-बिहार तक पड़ेगा यास तूफान का असर, कई जिलों में बारिश का अलर्ट

Image
अंजना मिश्रा   नई दिल्‍ली- ताउते चक्रवाती तूफान के बाद अब पूर्वी तटीय राज्‍यों पर यास तूफान का खतरा मंडरा रहा है. इसकी भयावहता को देखते हुए राज्‍यों को अलर्ट पर रखा गया है. इसके लिए खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने समीक्षा बैठक की थी. वहीं भारत मौसम विज्ञान विभाग का कहना है कि यह यास गंभीर चक्रवाती तूफान में बदल चुका है. यह 26 मई को ओडिशा के बालासोर के पास दस्‍तक देगा. 26 मई को इसकी तीव्रता और बढ़ जाएगी. इस तूफान का असर अभी से दिखने लगा है. इसे लेकर मौसम विभाग ने उत्‍तर प्रदेश, झारखंड, बिहार समेत कई राज्‍यों के अधिकांश जिलों के लिए बारिश का अलर्ट भी जारी किया है. मौसम विभाग के अनुसार यह चक्रवाती तूफान ओडिशा के पारादीप और पश्चिम बंगाल के सागर द्वीप से होकर गुजरेगा जो बालासोर के पास है. 26 मई की सुबह ओडिशा के तट पर कम दबाव के इस क्षेत्र की वजह से 90 से 100 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से हवाएं चलेंगी जो 110 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार तक भी पहुंच सकती हैं. इसके असर से मध्य महाराष्ट्र, कोंकण और गोवा में मंगलवार को 30-40 किलोमीटर की रफ्तार से हवाएं चलने और बिजली गरजने के साथ बारिश होने का

MP में ताऊ ते का असर:भोपाल में गरज-चमक के साथ बारिश; सतना, सागर, दतिया, होशंगाबाद में लाखों क्विंटल गेहूं खरीदी केंद्रों पर भीगा

Image
मध्यप्रदेश में भी तूफान ताऊ ते का असर दिख रहा है। भाेपाल में दिनभर बादलों का डेरा रहा। तेज हवाएं चली। देरशाम में गरज-चमक के साथ बारिश को दौर शुरू हुआ। वहीं दूसरी ओर खरीदी केंद्रों पर खुले में रखा लाखों क्विंटल गेहूं भीग गया। सतना, सागर, दतिया, होशंगाबाद, गुना समेत कई जगहों पर खुले में खरीदी केंद्राें पर रखा लाखों क्विंटल गेहूं भीग गया। अकेले विंध्य के दो जिले सतना और रीवा में 120 करोड़ रुपए के गेहूं को नुकसान पहुंचा है। तीन दिन से प्रदेश के कई हिस्साें में रुक-रुक कर हो रही बारिश से खेतों में प्याज को भी नुकसान पहुंचा है। प्याज भीगने के कारण खराब होने लगी है। किसानों की मेहनत पर पानी अफसरों की लापरवाही से फिरा है। गेहूं खरीदी के बाद केंद्रों से नागरिक आपूर्ति निगम के अफसरों ने गेहूं का उठवाया ही नहीं। परिवहन की व्यवस्था न होने के कारण गेहूं भीगा है, जबकि एक सप्ताह से सबको पता था कि तूफान की वजह से बारिश होने वाली है। इसके बाद भी अफसर सोए रहे। सतना में भारी नुकसान के बाद टूटी नींद सतना जिले के खरीदी केेंद्रोंं पर हजारों क्विंटल गेहूं भीगा है। किसान संगठनों के अनुमान के मुताबिक यह नुकसान

महाराष्ट्र-गुजरात में ताउते ने मचाई तबाही, कमजोर होकर 11 किमी की रफ्तार से उत्तर-उत्तरपूर्व की ओर बढ़ा

Image
भीषण चक्रवाती तूफान ताउते सोमवार रात में गुजरात के सौराष्ट्र तट से टकराया और इस दौरान हवा 185 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से चली। इससे पहले, चक्रवात के कारण मुंबई में भारी वर्षा हुई और गुजरात में दो लाख से अधिक लोगों को निकालकर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाना पड़ा तूफान से अबतक 146 कर्मियों को बचाया गया - रक्षा विभाग चक्रवात तूफान से अबतक 146 कर्मियों को बचाया गया है। रक्षा पीआरओ ने इस बात की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि भारतीय वायुसेना P8I के साथ हवाई खोज कर रही है। मुंबई में आंधी में उखड़े पेड़ मुंबई के बलार्ड एस्टेट एरिया में आंधी में उखड़े पेड़, एनडीआरएफ की टीम इन्हें हटाने में जुटी हुई है। समुद्र में फंसे 132 लोगों को बचाया गया भारतीय नौसेना ने कहा कि विपरीत हालात में अब तक समुद्र में फंसे 132 लोगों को बचाया गया। बता दें कि मुंबई में समुद्र के पास जहाज में करीब 400 लोग फंस गए थे। इन्हें बचाने के लिए नेवी के तीन युद्धपोत तैनात किए गए हैं।  काम में जुटी एनडीआरएफ की टीम बीती रात एनडीआरएफ की टीम ने मुंबई के दहिसर में ताउते तूफान से सड़कों पर गिरे पेड़ों को हटाया।     

चक्रवाती तूफान का खौफ, अलर्ट मोड पर आया उदयपुर प्रशासन

Image
उदयपुर.  चक्रवाती तूफान तौउते (Cyclone Taukta) के प्रभाव के कारण कोविड मरीजों के उपचार में कोई बाधा उत्पन्न न हो इसके लिए जिला प्रशासन सतर्क (Alert ) हो गया है. जिला कलक्टर ने अजमेर विद्युत वितरण निगम लिमिटेड को निर्देश दिये हैं कि वे तीन क्लस्टर बनाकर प्रत्येक में एक तकनीकी दल बनायें जो न्यूनतम समय में बिजली व्यवस्था में बाधा उत्पन्न होने पर उसे सुचारू कर सके. चक्रवाती तूफान तौउते को देखते हुये जिला कलक्टर चेतन देवड़ा ने जिला परिषद सभागार में रविवार को आपातकालीन बैठक बुलाई. बैठक में कलक्टर देवड़ा ने निर्देश दिये कि ऑक्सीजन गैस उत्पादक फर्मों को निर्बाध बिजली आपूर्ति मिले इसके लिये अजमेर विद्युत वितरण निगम लिमिटेड विभाग से एक एक सहायक अभियन्ता/कनिष्ठ अभियन्ता को उनमें नियुक्त किया जाये. महाराणा भूपाल राजकीय चिकित्सालय और ईएसआईसी चिकित्सालय चित्रकुट नगर में भी एक-एक सहायक अभियन्ता या कनिष्ठ अभियन्ता की तुरन्त प्रभाव से नियुक्ति की जाये. तीन टीमें रखेंगी अस्पतालों में बिजली आपूर्ति पर नजर जिला कलक्टर ने पुलिस, एसडीआरएफ और नागरिक सुरक्षा विभाग को अलर्ट मोड पर रहने के निर्देश दिए हैं. एडीएम